Monday, October 19, 2009

ख़बरों की दुनिया के बेख़बर!

शहर के एक मशहूर अपार्टमेंट के फ्लैट में देर रात कुछ बदमाश घुस आए। अपार्टमेंट अपनी कॉलोनी के पास ही है लिहाजा घटना के बारे में जानकारी लेने की उत्सुकता जागी। थोड़ी बहुत कोशिश से आधी -अधूरी जानकारी मिली और इस बीच दफ्तर जाने का वक्त हो गया। फिर पता चला कि दफ्तर के रामसुंदर जी भी इसी अपार्टमेंट में रहते हैं। घटना जिस फ्लैट में हुई वो अपार्टमेंट की पहली मंजिल पर है और रामसुंदर जी का घर दूसरी मंजिल पर। ऐसे में रामसुंदर जी से बेहतर जानकारी भला कौन दे सकता था। रामसुंदर जी ठहरे पत्रकार, वो भी टेलीविजन के मतलब इन्हें तो पूरी जानकारी होगी ही। जानकारी पाने की चाहत में रामसुंदर जी के मिलते ही हमने सवाल दाग दिए लेकिन जनाब ये क्या?... जवाब सुनते ही हमारे पैरों तले ज़मीन खिसक गई। रामसुंदर जी बोले..'भैया! दफ्तर के चक्कर और किच-किच से फुर्सत मिले तो पता चलता न। हम तो देर रात घर पहुंचे थे और अल-सुबह घर से निकल लिए'। रामसुंदर जी का ये जवाब थोड़ा हैरान जरूर करता है लेकिन सच यही है। घर बैठे ड्राइंग रूम में पल-पल की ख़बर पहुंचाने वालों को पड़ोसियों की तो क्या कई मायनों में खुद की ख़बर नहीं है। टेलीविजन पर ख़बरें परोसने में माहिर हमारी जमात में शामिल लोग दूसरों के घर के अंदर तक झांक सकते हैं लेकिन इन्हें अपने और अपने से जुड़े लोगों के बारे में जानने की फुर्सत कहां। साथ में काम करने वाले दोस्त का जन्म दिन हो और इसकी जानकारी एच आर डिपार्टमेंट नोटिस बोर्ड पर न लगाए तो हम में से कितने उसे याद रख पाते हैं। हमारे बीच कितने लोग हैं जो अपनी सेहत को लेकर संजीदा है। जवाब से निराशा ही होगी क्योंकि आप लाख उपदेश दे लीजिए सच यही है कि हमारी जमात में शामिल लोग चैनलों की चाकरी में ऐसे फंस गए हैं कि खुद बेखबर हो गए हैं। मुझे नहीं लगता कि इसके लिए समय कि कमी जिम्मेदार है,क्योंकि केवल व्यस्तता ही वजह होती तो कई बड़े बिजनेसमैन, अभिनेता और राजनेता हमसे कहीं ज्यादा व्यस्त हैं। असल वजह तो कुछ और ही है। हमारे लिए अब केवल वे खबरें मायने रखती हैं जो बिक सकती हैं। अब पड़ोसी के घर में बदमाश घुसे और निकल गए कोई ख़ास कहानी भी नहीं बन पाई तो भला हमें क्या लेना देना। ख़बरों और आसपास के घटनाक्रम को देखने का हमारा नजरिया बदल चुका है। कभी-कभी मुझे लगता है कि कहीं हम ख़बरों के बाजारवाद (या बाजारवाद की ख़बरों)के गुलाम तो नहीं बन बैठे हैं?

1 comment:

वरुण कुमार सखाजी said...

बेहतरीन....सच कहने का साहस और सलीका दुनिया को दिखाने वाले...सच की तस्वीर रखने वालों के झंडाबरदार.....जनता की आवाज़ ना जाने क्या-क्या ....सबकी वो सच्चाई जिसे हम आज के फुलपैक्ड दफ्तरिया कल्चर के बहाने ढक देना चाहते है...रामसुंदर जी ऑफिस की मशरूफ़ियत बेशक इतनी है लेकिन घर में बीबी गर्भवती हो नहीं ये जानने लिए वक्त निकालने की ज़रूरत नहीं...जनाब मामला दोनो तरफ से उलझा ही है...एक तो बाज़ार में जुते कोल्हू के बैल से हम-आप और दूसरा हमारी ख़ुद की वो कमी जो आसपड़ौस से दूर रखती है...सचमें दोनों ही बातें है...एक बात को हाईलाइट कर सकते हैं..लेकिन इन सबमें हमारी उदासीनता भी कम बड़ी बात नहीं....

Post a Comment